Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

Anti defection law in hindi | दलबदल विरोधी कानून

Anti defection law in hindi | दलबदल विरोधी कानून

Anti defection law in hindi

जब कोइ पार्टी का सांसद या विधायक अपनी पार्टी बदलने की बात करता है तो अपने कई बार समाचारों में दल बदल विरोधी कानून का नाम जरूर सुन होगा लेकिन कीट आप जानते हैं दल बदल कानून क्या है what is anti defection law in hindi, दल बदल कानून कब लागू हुआ और यह किस पर लगाया जाता है, दल बदल कानून लगने की क्या शर्ते हैं। आज की इस पोस्ट में आपको इन सभी प्रश्नों का उत्तर मिल जाएगा।

कोइ भी नेता हो वह अक्सर किसी ने किसी राजनीतिक पार्टी से संबंधित होता है लेकिन जब किसी नेता का किसी पार्टी के साथ मतभेद हो जाता है तो वह पार्टी बदल लेता है, कोइ भी नेता अपनी पार्टी को बदलने के लिए तब तक स्वतंत्र है जब तक की वह सांसद या विधायक नहीं है अर्थात चुनाव से पूर्व, और विपक्ष या ऐसी पार्टी का नेता जो सत्ता में न हो पार्टी बदलने के लिए स्वतंत्र होता है लेकिन सत्ताधारी पार्टी का सांसद या विधायक या सत्ताधारी गतबंधन का नेता पार्टी बदलने के लिए स्वतंत्र नहीं होता है यहाँ दलबदल विरोधी कानून Anti defection law in hindi लागू हो जाता है। आइए जानते हैं यह दलबदल विरोधी कानून क्या है?

Anti defection law in hindi | दलबदल विरोधी कानून

दलबदल विरोधी कानून को वर्ष 1985 में संविधान की दसवीं अनुसूची जिसे दलबदल विरोधी अधिनियम के रूप में जाना जाता है, के रूप में 52वें संशोधन अधिनियम, 1985 के माध्यम से संविधान में शामिल किया गया था ।

दल-बदल विरोधी कानून संसद/विधान सभा सदस्यों (सांसद या विधायकों) को एक पार्टी से दूसरी पार्टी में शामिल होने पर दंडित करने का प्रावधान रखता है।

लेकिन संसद/विधान सभा सदस्यों का एक समूह को दल परिवर्तन करने की अनुमति देता है 1985 के अधिनियम के अनुसार, एक राजनीतिक दल के निर्वाचित सदस्यों के एक-तिहाई सदस्यों द्वारा ‘दलबदल’ को ‘विलय’ माना जाता था।

कभी – कभी कोइ राजनीतिक दल ही दूसरे दल में विलय होना चाहता है इस स्थिति में भी दलबदल विरोधी कानून लागू होता है।

इसके लिए 91वें संविधान संशोधन अधिनियम, 2003 में कानून जोड़ा गया इसके अनुसार  एक राजनीतिक दल को किसी अन्य राजनीतिक दल में या उसके साथ विलय करने की अनुमति दी गई है, बशर्ते कि उसके कम-से-कम दो-तिहाई सदस्य विलय के पक्ष में हों।

हमें उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़कर आपको दलबदल कानून समझ में आ गया होगा यदि Anti defection law in hindi दलबदल विरोधी कानून के बारे में कोइ सवाल या सुझाव हो तो आप कमेन्ट में पूछ सकते हैं।

Also read…

पत्र कितने प्रकार के होते हैं? Patra kitne prakar ke hote hain?

Leave a Comment

close