Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

Cloud Computing क्या है? | Cloud Computing in Hindi?

Cloud Computing क्या है? | Cloud Computing in Hindi?

Cloud Computing in Hindi

Cloud Computing in Hindi

दोस्तों आज के समय Cloud Computing की मदद से Technology की पहुंच विश्व भर में कोने कोने तक पहुंच चुकी है। Cloud Computing की मदद से ही YouTube, Whatsapp, Text Message Service, Video Call, Web Browser, Google, Notebook, Google Apps, सभी का इस्तेमाल केवल Cloud Computing की वजह से ही संभव हो पाया है।

लेकिन आज भी अधिकतर लोगों को यह नहीं पता है कि Cloud Computing होता क्या है। यदि आप भी यही जानना चाहते हैं कि Cloud Computing क्या है, Cloud Computing की शुरुआत कब हुई, Cloud Computing का आविष्कार किसने किया, तथा Cloud Computing के उपयोग क्या है, तो इन सभी चीज़ के बारे में आज के इस लेख में हम आपको विस्तार से जानकारी देंगे तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि Cloud Computing in Hindi क्या है:-

Cloud Computing क्या है? | Cloud Computing in Hindi?

मित्रों, Cloud Computing एक प्रकार से Internet आधारित प्रक्रिया Computer Application As a Service के तौर पर समझी जा सकती है। यानी कि Internet पर उपस्थित एक ऐसी Application जिसे हम बिना Software के देख भी नहीं सकते, लेकिन उसी प्रोग्राम को Access करने के लिए हमें Internet के साथ उस विशेष Application की आवश्यकता है।

जिसका Access हम Cloud Computing Technology के माध्यम से कर सकते हैं। Cloud Computing एक Technology है, जिसके माध्यम से Internet Internet पर इकट्ठा की गई जानकारियों को हम Access कर सकते हैं।

आमतौर पर किसी Software को हम अपने मोबाइल फोन, लैपटॉप, Computer, टेबलेट या System में रखते हैं। लेकिन यदि हम किसी Software को हमारे system में रखे बिना किसी Cloud पर अपलोड करते हैं जो कि आधिकारिक तौर पर किसी सर्वर में जाकर भंडारित होता है, तो उसका Access प्राप्त करने के लिए हमें Internet की आवश्यकता होती है।

Internet के माध्यम से हम उस Cloud अर्थात Space पर विद्यमान server में उपस्थित हमारी Application को Access कर सकते हैं, जो हमारे मोबाइल फोन में या हमारे System में मूल रूप से Installed नहीं है।

Cloud Computing का उदाहरण | Example of Cloud Computing

उदाहरण के लिए हम यह समझ सकते हैं कि हमारे मोबाइल फोन में Google Sheet Installed नहीं है। लेकिन हम फिर भी Google Sheet का इस्तेमाल करना चाहते हैं। तो इसके लिए हम Web Browser Open करते हैं, और उसमें Google Sheet सर्च करते हैं।

इसके पश्चात हमारे पास सैकड़ों ऐसी लिंक आती है जो Google Sheet से संबंधित होती हैं, और उनमें से जो सबसे relatable link पर क्लिक करके हम Google Sheet को Access करना शुरू करते हैं।

Google Sheet ना हमारी मोबाइल फोन में installed है, न ही उसे हम Cloud में देख पा रहे हैं। उसे Cloud में देखने के लिए हमें एक Software की आवश्यकता है, और Access करने के लिए Internet की आवश्यकता है।

Cloud Computing को मोटे तौर पर Cloud Accessing भी कहा जा सकता है, अर्थात Cloud पर उपस्थित किसी Application Software Service का Access मात्र Internet और एक Software के द्वारा किया जा सके।

यदि “Cloud” Word आपको कंफ्यूज कर रहा है, तो Cloud word को आप Internet Medium से Replace कर सकते हैं। Cloud एक प्रकार से भंडारगृह है।

यह भंडारगृह मूल रूप से किसी सर्वर से से कनेक्टेड होता है, और जो भी Application Service हम Internet के माध्यम से इस्तेमाल कर रहे हैं, वह कहीं ना कहीं स्थाई या अस्थाई रूप से किसी सर्वर पर अपलोड करी हुई है।

आप समझ गए होंगे कि Cloud Computing वास्तव में क्या होता है। यह एक प्रकार की टेक्नोलॉजी है जिसके माध्यम से Internet पर स्थित Service और Application का Access हम only मोबाइल और Internet से कर सकते हैं।

Cloud Computing कब शुरू हुआ? | When Cloud Computing started?

Cloud Computing एक Network based Computing System है, जिस की अवधारणा सन 1960 में की जा चुकी थी। लेकिन 9 अगस्त 2006 को Google के CEO Eric Schmidt ने इसे इंडस्ट्री कॉन्फ्रेंस में इंट्रोड्यूस किया था। तो हम यह मान सकते हैं कि Cloud Computing की शुरुआत 2006 से हो चुकी है।

कई लोगों का यह भी मानना है कि Joseph Carl Robenett Locklider ने सन 1960 के दशक में कब्र Computer का आविष्कार किया था।

Cloud Computing के उपयोग क्या है? | Features & advantages of Cloud Computing

Cloud Computing के कई सारे फायदे हैं। हालांकि उन सभी फायदों को यदि हम आपको बताने लगे तो यह लेख काफी बड़ा हो जाएगा। इसलिए हम आप को संक्षिप्त में Cloud Computing के उपयोग के फायदे इसके फीचर्स के प्रयास करेंगे। Cloud कंप्यूटिंग का सबसे पहला एडवांटेज यह है कि:-

  • आमतौर पर कंपनियों को केवल उसी स्टोरेज का इस्तेमाल करने के लिए पैसे देने होते हैं जिसे उन्होंने एक्चुअल में इस्तेमाल किया है ना की किसी पूरे डेटाबेस के लिए।
  • Cloud Computing की मदद से किसी भी Service Application या Software को Access करना काफी आसान हो जाता है।
  • आपके System पर बोझ नहीं पड़ता, इसलिए आपका System तेज गति से काम करता है।
  • Cloud Computing में Data Protaction गजब का होता है।
  • Cloud Computing के अंतर्गत आपका डाटा 99% सुरक्षित होता है, और यह सुरक्षा प्रणालियों में सर्वाधिक है।
  • Cloud पर अपने किसी भी Service को Application को या फाइल को अपलोड करना काफी आसान होता है।
  • आप चुटकियों में Cloud Computing का इस्तेमाल करके अपनी किसी आवश्यक फाइल को Cloud पर upload कर सकते हैं, उसके पश्चात किसी की System से उसे Access कर सकते हैं।
  • Cloud Computing के द्वारा अपनी किसी फाइल को Application को यह Software को Access करने के लिए आपको किसी विशेष स्थान पर उपस्थित होना आवश्यक नहीं है।
  • आपके पास मात्र Internet होना चाहिए और Cloud को Access करने के लिए Software होना आवश्यक है। इसके बाद आप Cloud Computing की मदद से अपने डाटा को Access कर सकते हैं।
  • Cloud Computing की मदद से आप Infrastructure as a Service और Platform As a Service के तौर पर Cloud Computing का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • Cloud Computing का इस्तेमाल फाइल स्टोरेज के लिए किया जा सकता है, बिग डाटा एनालिटिक्स के लिए किया जा सकता है, डाटा बैकअप और आर्काइव के लिए किया जा सकता है।
  • Disaster Recovery के लिए, Software Testing Development के लिए तथा Communication Establishment के लिए Cloud Computing का इस्तेमाल सर्वाधिक किया जाता है।
  • Cloud Computing की मदद से Social Networking ज्यादा मजबूत हुई है।
  • Cloud Computing की मदद से बिजनेस करना आसान होता है।

यह सारे फायदे Cloud Computing के हैं

Cloud Computing के नुकसान क्या है? | Disadvantages of Cloud Computing

Cloud Computing के जितने फायदे और उपयोग हैं लगभग उतने ही इसके नुकसान भी है, जैसे कि –

  • डाटा का चोरी हो जाना, उसका गुम हो जाना
  • डाटा लीक हो जाना
  • अकाउंट या Service का हाईजैक किया जाना
  • अकाउंट का हैक हो जाना,
  • Insecure API तथा इंटरफेस के वजह से मुसीबत उठाना
  • इस टेक्नोलॉजी का काफी अधिक वनरेबल होना, यह सारे Cloud Computing के नुकसान भी है।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने आपको बताया कि Cloud Computing क्या है, Cloud Computing किसे कहते हैं, तथा हमने आपको Cloud Computing in Hindi के उदाहरण देते हुए आपको समझाया है।

हम आशा करते हैं कि Cloud Computing के संदर्भ में आपको सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए अन्य किसी लेख को पढ़ने की आवश्यकता नहीं होगी। यदि आपको इस लेख से संबंधित कोई सवाल पूछना हैं तो आप हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Also read…

जावा क्या है और कैसे सीखें | What is Java in Hindi

Leave a Comment

close