Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

Fundamentals of Computer Notes in Hindi

Fundamentals of Computer Notes in Hindi – कंप्युटर नोट्स हिन्दी में

Computer Notes in Hindi

आज की इस पोस्ट में हम आपको Fundamentals of Computer Notes in Hindi – कंप्युटर नोट्स हिन्दी में प्रदान कर रहें हैं। आज के समय में कंप्युटर विषय पढ़ना बहुत ही महत्वपूर्ण है हर क्षेत्र में इसकी उपयोगिता है हम आपके लिए बहुत की सरल भाषा में कंप्युटर के नोट्स computer ke notes ले के आए हैं जो आपको कई प्रतियोगी परीक्षाओं में सहायता करेंगे।

कंप्यूटर का परिचय

कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति अंग्रेजी के शब्द ‘Compute’ से हुई है जिसका अर्थ है गणना करना, इसी लिए कंप्यूटर को हिंदी में संगणक भी कहा जाता है  
कंप्यूटर वास्तव में हार्डवेयर  और सॉफ्टवेर का सम्मिलित रूप है जिसका उपयोग हम कई कार्यो को पूरा करने  लिए करते है कंप्यूटर हार्डवेयर में मुख्यतः CPU, माउस , कीबोर्ड, मॉनिटर आदि आते है  

कंप्यूटर के उपयोग

पुराने समय में कंप्यूटर का उपयोग सिर्फ गणना करने के लिए किया जाता था लेकिन आज मनोरंजन, शिक्षा, बैंकिंग, रेलवे स्टेशन , एअरपोर्ट, चिकित्सा, रक्षा, वैज्ञानिक अनुसन्धान, संचार आदि कई क्षेत्रो में कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है

कंप्यूटर का विकास एवं पीढ़ियां

कंप्यूटर के विकास का इतिहास लगभग 3000 वर्ष पुराना है हम जिस कंप्यूटर का उपयोग आज करते है उससे पहले कई अन्य उपकरणों का अविष्कार किया गया जिन्होंने कंप्यूटर के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया| जैसे अबेकस, पास्कल कैलकुलेटर आदि

कंप्युटर के विकास को पाँच पीड़ियों में विभाजित किया गया है।

  1. प्रथम पीढ़ी (First Generation)  1942-1955 – प्रथम पीड़ी के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब का उपयोग होता था। वैक्यूम ट्यूब आकार में बड़ी थी अतः इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों का आकार बहुत बड़ा था। इस पीड़ी के कंप्यूटरों की कार्य करने की गति भी बहुत धीमी थी  प्रथम पीड़ी के कंप्यूटरों में मेमोरी के लिए चुम्बकीय ड्रम का प्रयोग किया जाता था तथा  मशीनी भाषा (0,1) पर काम करते थे| UNIVAC 1, ENIAC, और Mark 1 प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटरों के उदाहरण है 
  2. द्वितीय पीढ़ी (Second Generation) 1955-1964 – द्वीतीय पीढ़ी के कंप्यूटरों में वैक्यूम ट्यूब के स्थान पर सॉलिड स्टेट ट्रांजिस्टर का प्रयोग किया गया इस पीढ़ी में उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं का विकास हुआ, जैसे- BASIC, COBOL, FORTRAN आदि।
  3. तृतीय पीढ़ी (Third Generation) 1965-1974 – इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में ट्रांजिस्टरों का स्थान एकीकृत परिपथ (Integrated circuits) ने ले लिया। इन्हें आई.सी. (IC) भी  कहा जाता है।  IC का अविष्कार जे. एस. किल्बी द्वारा किया गया  
  4. चतुर्थ पीढ़ी (Fourth Generation) 1975 से अब तक – इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में बड़े पैमाने के एकीकृत  परिपथ  (Ultra Large Scale Integrated Circuits – ULSI) प्रयुक्त हुए।इसमें हाई लेविल भाषा का प्रयोग प्रोग्रामिंग कि लिये किया जाता है | 
  5. पंचम पीढ़ी (Fifth Generation) – ये कम्प्यूटर अभी विकास की अवस्था में हैं। इन कंप्यूटरों में कृतिम बुद्धि (Artificial Intelligence) की तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है

इनपुट और आउटपुट डिवाइस

इनपुट डिवाइस (Input Device)

जिन डिवाइस की मदद से हमारे द्वारा कंप्यूटर को किसी कार्य को करने के निर्देश दिए जाते है उन्हें इनपुट डिवाइस कहते है जैसे माउस , कीबोर्ड आदि|

आउटपुट डिवाइस (Output Device)

आउटपुट डिवाइस उन डिवाइस को कहा जाता है जिनके द्वारा हमें कंप्यूटर द्वारा किये गए कार्य का परिणाम प्राप्त होता है जैसे मॉनिटर, प्रिंटर आदि 

कंप्यूटर मेमोरी

कंप्यूटर में डाटा और प्रोग्राम को संगृहीत करने के लिए जिस युक्ति का प्रयोग किया जाता है उसे मेमोरी कहते है
कंप्यूटर मेमोरी को दो भागो में बांटा जा सकता है प्राथमिक मेमोरी (Primary memory) और द्वितीयक मेमोरी (Secondary memory) , प्राइमरी मेमोरी को पुनः Volatile और Non Volatile मेमोरी में विभाजित किया जाता है 
कंप्यूटर मेमोरी को निम्नलिखित दिए गए चार्ट से समझा जा सकता है|

Computer Notes in Hindi

कंप्यूटर मेमोरी की इकाइयां

  • 4 Bits = 1 Nibble
  • 8 Bits = 1 Byte
  • 1 Kilobyte (KB) = 1024 Bytes
  • 1 Megabyte (MB) = 1024 Kilobyte (KB)
  • 1 Gigabyte (GB) = 1024 Megabyte (MB)
  • 1 Terabyte (TB) = 1024 Gigabyte (GB)
  • 1 Petabyte (PB) = 1024 Terabyte (TB)
  • 1 Exabyte (EB) = 1024 Petabyte (PB)
  • 1 Zettabyte (ZB) = 1024 Exabyte (EB)
  • 1 Yottabyte (YB) = 1024 Zettabyte (ZB)

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा

प्रोग्रामिंग भाषा एक कृतिम भाषा है जिसका उपयोग कंप्यूटर में प्रोग्राम बनाते समय कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए किया जाता है कंप्यूटर को दिए गए निर्देशों के समूह को प्रोग्राम कहते है |

प्रोग्रामिंग भाषाएँ तीन प्रकार की होती है मशीनी भाषा (Machine Language), असेम्बली भाषा (Assembly language) और उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (High-Level Programming Language)|

मशीनी भाषा (Machine Language)

मशीनी भाषा एक निम्न स्थर की प्रोग्रामिंग भाषा है जिसे केवल कंप्यूटर के द्वारा ही समझा जा सकता है मनुष्य के द्वारा इसको समझना व इसमें प्रोग्राम तैयार करना संभव नहीं है
मशीनी भाषा केवल बाइनरी नंबर 0  और 1 की श्रंखला से ही बनी होती है

असेम्बली भाषा (Assembly language)

असेंबली भाषा का विकास प्रोग्रामिंग को सरल करने के लिए किया गया इसमें बाइनरी संख्याओ  के स्थान पर नेमोनिक कोड का प्रयोग किया जाता है  परन्तु इस भाषा का उपयोग करने से पहले इसे  मशीनी भाषा में बदलना पड़ता है जिसके लिए असेम्बलर का उपयोग किया जाता है

उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (High-Level Programming Language)

उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (High-Level Programming Language) मनुष्य द्वारा समझने में आसान होती है क्यूंकि इसमें अंग्रेजी के वर्णों का उपयोग किया जाता है उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा  को कम्पाइलर को सहायता से मशीनी भाषा में बदला जाता है |

ऑपरेटिंग सिस्टम

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर पर मौजूद एक महत्वपूर्ण पोग्राम है जो कंप्यूटर हार्डवेयर और कंप्यूटर यूजर के मध्य सेतु या इंटरफ़ेस का कार्य करता है ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा कंप्यूटर मेमोरी, प्रोग्राम, व इनपुट आउटपुट डिवाइस को नियंत्रित किया जाता है 
कंप्यूटर को  चालू करने पर कंप्यूटर में लोड होने वाला पहला प्रोग्राम ऑपरेटिंग सिस्टम है   कंप्यूटर के चालू होने और ऑपरेटिंग सिस्टम के लोड होने की प्रकिर्या को बूटिंग (Booting) कहते है|

कुछ प्रचलित ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण

  • लिनक्स (Linux)
  • विंडोज (Windows)
  • एंड्राइड (Android)
  • IOS
  • मैक OS (Mac OS)

इन्टरनेट , WWW और वेब ब्राउज़र का परिचय

इन्टरनेट (Internet)

इन्टरनेट (Internet) का पूरा नाम इंटरनेशनल नेटवर्क है इन्टरनेट की शुरुआत विंट कर्फ़ ने की थी विंट कर्फ़ को इन्टरनेट का जनक कहा जाता है 
इन्टरनेट को नेटवर्कों का नेटवर्क भी कहा जाता है|
 इन्टरनेट पर उपलब्ध सभी कंप्यूटर TCP/IP प्रोटोकॉल के द्वारा  जुड़े होते है इन्टरनेट पर उपलब्ध डाटा  को इसी प्रोटोकॉल द्वारा नियंत्रित किया जाता है TCP/IP द्वारा किसी फाइल को छोटे – छोटे   भागो में बाँट दिया जाता है जिन्हें पैकेट्स (Packets) कहते है

WWW

WWW का पूरा नाम वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) है अंग्रेजी वैज्ञानिक टिम बर्नर्स-ली ने 1989 में वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार किया था

वेब  ब्राउज़र (Web Browser)

जिस सॉफ्टवेर का उपयोग करके हम किसी वेब पेज या वेबसाइट को देखते है उसे वेब ब्राउज़र कहते है 
उदाहरण – गूगल क्रोम , मोज़िला फायरफॉक्स, ओपेरा, लिनक्स, इन्टरनेट एक्स्प्लोरर , एज आदि 

कंप्यूटर से सम्बंधित फुल फॉर्म

  • 3GP – 3RD GENERATION PROTOCOL
  • 3GPP – 3RD GENERATION PARTNERSHIP PROJECT
  • AAC – ADVANCED AUDIO CODEC
  • AC3 – DOLBY DIGITAL SOUND FILE
  • AIFF – AUDIO INTERCHANGE FILE FORMAT
  • AJAX–ASYNCHRONOUS JAVASCRIPT AND XML
  • ALU– ARITHMETIC LOGIC UNIT
  • AM/FM – AMPLITUDE/ FREQUENCY MODULATION.
  • AMD – ADVANCE MICRO DEVICE
  • AMR – ADOPTIVE MULTI RATE
  • API–APPLICATION PROGRAMMING INTERFACES
  • ARPANET – ADVANCED RESEARCH PROJECT AGENCY NETWORK.
  • ASCII–AMERICAN STANDARD CODE FOR INFORMATION INTERCHANGE
  • ASIC – APPLICATION SPECIFIC INTEGRATED CIRCUIT
  • ASP–ACTIVE SERVER PAGES
  • ASPI – ADVACNE SCSI PROGRAMMING INTERFACE
  • AVI – AUDIO VIDEO INTERLEAVED
  • AWB – ADOPTIVE MULTI RATE WIDEBAND
  • BMP – BITMAP
  • CD – COMPACT DISK.
  • CDA – COMPACT DISK AUDIO
  • CDMA – CODE DIVISION MULTIPLE ACCESS.
  • COMPUTER  – COMMONLY OPERATING MACHINE PARTICULARLY USED FOR TECHNOLOGY ENTERTAINMENT AND RESEARCH
  • CRT – CATHODE RAY TUBE.
  • CSS–CASCADING STYLE SHEETS
  • DAT – DIGITAL AUDIO TAPE.
  • DLL – DYNAMIK LINK LIBRARY
  • DOS – DISK OPERATING SYSTEM.
  • DVD – DIGITAL VERSATILE DISK.
  • DVD – DIGITAL VIDEO DISK
  • DVX – DIVX VIDEO
  • EDGE – ENHANCED DATA RATE FOR GSM EVOLUTION.
  • EPROM – ERASABLE PROGRAMMABLE READ ONLY MEMORY.
  • EXE – EXECUTABLE FORMAT
  • FLAC – FREE LOSSLESS AUDIO CODEC
  • FLV – FLASH LIVE VIDEO
  • FPS – FRAME PER SECOND
  • GIF – GRAPHICS INTERCHANGE FORMAT
  • GPRS – GENERAL PACKET RADIO SERVICE.
  • GSM – GLOBAL SYSTEM FOR MOBILE COMMUNICATION.
  • GUI – GRAPHICAL USER INTERFACE.
  • HSDPA – HIGH SPEED DOWNLINK PACKET ACCESS.
  • HTML – HYPER TEXT MARKUP LANGUAGE
  • HTTP – HYPER TEXT TRANSFER PROTOCOL.
  • HTTPS – HYPER TEXT TRANSFER PROTOCOL SECURE.
  • IMAP–INTERNET MESSAGE ACCESS PROTOCOL
  • IP – INTERNET PROTOCOL.
  • ISP – INTERNET SERVICE PROVIDER.
  • J2EE– JAVA 2 PLATFORM ENTERPRISE EDITION
  • JAD – JAVA APPLICATION DEVELOPMENT
  • JAR – JAVA ARCHIVE
  • JPEG – JOINT PHOTOGRAPHIC EXPERT GROUP
  • JS – JAVA SCRIPT
  • JSP– JAVA SERVER PAGE
  • M3G – MOBILE 3D GRAPHICS
  • M4A – MPEG-4 AUDIO FILE
  • MIDI – MUSICAL INSTRUMENT DIGITAL INTERFACE
  • MIME–MULTIPURPOSE INTERNET MAIL EXTENSIONS
  • MMF – MUSIC MOBILE FORMAT
  • MMF – SYNTHETIC MUSIC MOBILE APPLICATION FILE
  • MP2 – MPEG AUDIO LAYER 2
  • MP3 – MPEG AUDIO LAYER 3
  • MP4 – MPEG LAYER 4
  • MPEG – MOTION PICTURE EXPERTS GROUP
  • ORACLE–OAK RIDGE AUTOMATIC COMPUTER AND LOGICAL ENGINE
  • PDF – PORTABLE DOCUMENT FORMAT
  • PERL–PRACTICAL EXTRACTION AND REPORT LANGUAGE
  • PHP–HYPERTEXT PREPROCESSOR
  • PNG – PORTABLE NETWORK/NEW GRAPHICS
  • RAM–RANDOM ACCESS MEMORY
  • RDBMS–RELATIONAL DATABASE MANAGEMENT SYSTEM
  • RM – REAL MEDIA
  • ROM–READ ONLY MEMORY
  • SIS – SYMBIAN INSTALLATION SOURCE
  • SMTP–SIMPLE MAIL TRANSFER PROTOCOL
  • SQL–STRUCTURED QUERY LANGUAGE
  • SWF– SHOCK WAVE FLASH
  • TCP – TRANSMISSION CONTROL PROTOCOL.
  • UHF – ULTRA HIGH FREQUENCY.
  • UMTS – UNIVERSAL MOBILE TELECOMMUNICATION SYSTEM.
  • UPS – UNINTERRUPTIBLE POWER SUPPLY.
  • URL – UNIFORM RESOURCE LOCATOR.
  • USB – UNIVERSAL SERIAL BUS.
  • VBS – VISUAL BASIC SCRIPTING LANGUAGE
  • VCD – VIDEO COMPACT DISK
  • VHF – VERY HIGH FREQUENCY.
  • VIRUS – VITAL INFORMATION RESOURCE UNDER SEIZED.
  • VOB – VIDEO OBJECT
  • WAV – WAVEFORM PCM AUDIO
  • WBMP – WIRELESS BITMAP IMAGE
  • WINDOWS – WIDE INTERACTIVE NETWORK FOR DEVELOPMENT OF OFFICE WORK SOLUTION
  • WLAN – WIRELESS LOCAL AREA NETWORK
  • WMA – WINDOWS MEDIA AUDIO
  • WML – WIRELESS MARKUP LANGUAGE
  • XHTML–EXTENSIBLE HYPERTEXT MARKUP LANGUAGE
  • XMF – EXTENSIBLE MUSIC FILE
  • XML–EXTENSIBLE MARKUP LANGUAGE
  • XSL– EXTENSIBLE STYLE SHEET LANGUAGE
  • ZIP – ZONE IMPROVEMENT PLAN

उपरोक्त हमने आपको Fundamentals of Computer Notes in Hindi – कंप्युटर नोट्स हिन्दी में को संक्षेप में प्रदान किया है कंप्युटर के विषय में विस्तार से पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

Computer General Knowledge in Detail

Also read…
माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस की-बोर्ड शार्टकट हिंदी में – ms office keyboard shortcuts in hindi

Leave a Comment

close