Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

बिहार का भूगोल – Geography of Bihar

बिहार का भूगोल – Geography of Bihar

बिहार सामान्य ज्ञान

बिहार का भूगोल – Geography of Bihar

बिहार की भौगोलिक स्थिति 

  • बिहार भारत के पूर्व में स्थित है इसका अशंशीय विस्तार  21°58’10” से 27°31’15” उत्तरी अक्षांश व देशंतारिया विस्तार 82°19’50” से  88°17’40” पूर्वी देशांतर के मध्य है 
  • बिहार की सीमा एक देश व भारत के तीन राज्यों को स्पर्श करती है इसके उत्तर में नेपाल पूर्व में पश्चिम बंगाल , पश्चिम में उत्तर प्रदेश तथा दक्षिण में झारखण्ड स्थित है 
  • बिहार का कुल क्षेत्रफल 94,163 वर्ग किमी है यह क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का 13 वां सबसे बड़ा राज्य है 
  • बिहार की उत्तर से दक्षिण तक लम्बाई 345 किमी व पूर्व से पश्चिम तक अधिकतम चौड़ाई 483 किमी है 
  • बिहार राज्य की समुद्र तल से औसत ऊंचाई लगभग 173 फीट है 
  • गंगा नदी बिहार को दो भागो में बांटती है जिन्हें गंगा का दक्षिणी क्षेत्र व गंगा का उत्तरी क्षेत्र कहा जाता है

बिहार की भूगर्भिक संरचना 

बिहार को भूगर्भिक संरचना के अध्ययन हेतु मुख्यतः तीन भागो में बांटा जा सकता है जो निम्नलिखित है 

  1. धारवाड़ चट्टानें –  इस चट्टानों का निर्माण काल प्री कैंब्रियन युग माना जाता है इनमे मुख्यतः स्लेट , क्वार्टज़ आदि आते है  ये बिहार के दक्षिण पूर्वी भाग, जमुई , नवादा, खड़गपुर की पहाड़ी आदि में पाई जाती है  
  2. टर्शियरी चट्टानें – इस प्रकार की चट्टानें विहार के चंपारण के आसपास के क्षेत्रो में पाई जाती है|
  3. विन्ध्यन समूह की चट्टानें – ये चट्टानें मुख्यतः रोहतास तथा कैमूर जिले में पाई जाती है इनका उपयोग सीमेंट उधोग में भी किया जाता है 

बिहार की जलवायु 

  • बिहार में मानसूनी प्रकार की जलवायु पाई जाती है यहाँ पूर्वी भाग की जलवायु पश्चिमी भाग की अपेक्षा आद्र होती है 
  • बिहार में मुख्यतः तीन ऋतुएं होती है ग्रीष्म ऋतू , वर्षा ऋतू व शीत ऋतू 
  • बिहार का सबसे गर्म जिला  गया है 
  • बिहार में सबसे अधिक वर्षा किशनगंज जिले में होती है 

Also read – बिहार : एक परिचय | Bihar : An Introduction

Leave a Comment

close