Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

हिमाचल प्रदेश भूगोल एवं भौगोलिक संरचना

हिमाचल प्रदेश भूगोल एवं भौगोलिक संरचना (Himachal Pradesh Geography in Hindi)

हिमाचल प्रदेश भूगोल

इस पोस्ट में हम हिमाचल प्रदेश भूगोल एवं भौगोलिक संरचना (Himachal Pradesh Geography in Hindi) हिमाचल प्रदेश की भौगोलिक स्थिति आदि के विषय में पढ़ेंगे।

हिमाचल प्रदेश की भौगोलिक स्थिति (Geographical location of Himachal Pradesh)

हिमाचल प्रदेश भारत के उत्तर में स्थित एक हिमालयी राज्य है इस राज्य का कुल क्षेत्रफल 55673 वर्ग किमी. है। जो देश के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 1.69% है हिमाचल प्रदेश समूत्र तल से 350 से 6975 मीटर की के मध्य स्थित है।

हिमाचल प्रदेश का अक्षांशीय विस्तार 30°22’40” उत्तर से 33°12’40” उत्तर तक उत्तरी अक्षांश और का देशान्तरीय विस्तार 75°45’55” पूर्व से 79°04’20” पूर्व (पूर्वी देशान्तर) के मध्य है

हिमाचल प्रदेश में कुल 12 जिलें है राज्य का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला लाहौल-स्पीति और सबसे छोटा जिला हमीरपुर है

राज्य की सीमा की कुल लंबाई 1170 किमी है हिमाचल प्रदेश के उत्तर में जम्मू कश्मीर, दक्षिण में हरियाणा, दक्षिण- पश्चिम में पंजाब, दक्षिण पूर्व में उत्तराखंड राज्य और पूर्व में तिब्बत है
पंजाब से हिमाचल प्रदेश के सर्वाधिक पाँच जिलों की सीमा लगि है और प्रदेश के सबसे अधिक जिलों की सीमा से लगा जिला कांगड़ा और मंडी ये दोनों जिलें की सीमाएं 6 जिलों की सीमाओं को स्पर्श करती है

हिमाचल प्रदेश की राष्ट्रीय व अन्तराष्ट्रीय सीमाएं 

देश / राज्यसीमा स्पर्श करने वाला जिले का नाम 
उत्तर प्रदेशसिरमौर 
जम्मू-कश्मीरचम्बा, कांगड़ा 
हरियाणासिरमौर, सोलन 
पंजाबसोलन, चम्बा, कांगड़ा, ऊना, बिलासपुर 
उत्तराखंडशिमला, सिरमौर, किन्नौर 
तिब्बत (चीन)किन्नौर, लाहौल-स्पीति 

हिमाचल प्रदेश का भौगोलिक विभाजन (Geographical Division of Himachal Pradesh)

हिमाचल प्रदेश राज्य को भौगोलिक स्थिति के आधार पर चार भागों में विभाजित किया जाता है

  1. शिवालिक / बाह्य हिमालय 
  2. मध्य हिमालय 
  3. वृहत हिमालय 
  4. जास्कर श्रंखला

शिवालिक / बाह्य हिमालय 

यह हिमाचल प्रदेश का सबसे बाह्य और निचला भाग है इसकी औसत ऊंचाई 1500 मीटर है इस क्षेत्र के अंतर्गत सिरमौर , मंडी, सोलन, कांगड़ा, विलासपुर और हमीरपुर जिलों के निचले भाग आते हैं यह क्षेत्र मक्का, गन्ना, धान, गेहूं आदि के उत्पादन के लिए उपयुक्त है।

मध्य हिमालय 

यह क्षेत्र समुद्र तल से 1500 मीटर से 4600 मीटर की ऊंचाई के मध्य स्थित है इस क्षेत्र में धौलाधर और पीरपंजाल पर्वत पर्वत श्रंखलाएं स्थित है
धौलाधार पर्वत श्रंखला कांगड़ा, चम्बा और मंडी जिलों में स्थित है और पीरपंजाल पर्वत श्रंखला का अधिकांश भाग चम्बा जिले में स्थित है

वृहत हिमालय 

इस क्षेत्र की समुद्र तल से ऊंचाइ 5000 – 6000 मीटर के मध्य है यह क्षेत्र राज्य के पूर्वी सीमा पर स्थित है इस क्षेत्र में ऊंचाई अधिक होने के कारण पेड़ व झाड़ियाँ बहुत कम होते हैं परांग, काँगला, बारालाचा और कुंजम इस क्षेत्र के प्रमुख दर्रे हैं।

जास्कर श्रंखला

जास्कर श्रंखला राज्य की अंतिम पर्वत श्रंखला है यह राज्य के पूर्व में स्थित है जास्कर श्रंखला को सतलुज नदी एवं शिपकीला दर्रा दो भागों में विभाजित करते हैं हिमाचल की सबसे ऊंची पर्वत चोटी शिल्ला (7026 मीटर) जास्कर श्रंखला में ही स्थित है। 

Also read…

हिमाचल प्रदेश का इतिहास – History of Himachal Pradesh

 

Leave a Comment

close