Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख लोकगीत, लोकनृत्य एवं लोकनाट्य

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख लोकगीत, लोकनृत्य एवं लोकनाट्य

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख लोकगीत, लोकनृत्य एवं लोकनाट्य

हिमाचल प्रदेश लोक कला व संस्कृति की दृष्टि से एक समृद्ध राज्य है, यहाँ अनेक तरह के नृत्य, नाट्य, गीत आदि प्रचलित हैं । इस पोस्ट में हम हिमाचल प्रदेश के प्रमुख लोकगीत, लोकनृत्य एवं लोकनाट्य के बारे में जानेंगे।

हिमाचल प्रदेश के लोकगीत

  • राज्य में लोकगीत मुख्य रूप से प्रेम गाथा, वीरगाथा, देव स्तुति, विवाह एवं उत्सवों पर आधारित होते हैं।
  • जन्म, नामकरण , मुंडन आदि संस्कारों पर गए जाने वाले गीतों को बिहाइयाँ कहा जाता है।
  • कन्या के विवाह पर गाए जाने वाले गीतों को सुहाग गीत कहा जाता है।
  • कुंजू – चंचलों यह गए जाने वाले प्रेम गीत हैं जो मुख्य रूप से कुल्लू और कांगड़ा जिलों में गए जाते हैं।
  • मण्डी जिले में सिराज की दासी के नाम पर लोकगीत प्रचलित हैं।
  • पणतु और छंजोटी भी प्रेम गीत हैं।
  • सावन के महीने में झूला गीत गाए जाते हैं जिन्हे पींगा दे गीत भी कहा जाता है।
  • हिमाचली ऋतु गीतों में छीजें प्रसिद्ध है जो चैत्र मास में गए जाते हैं।
  • लामण कुल्लू घाटी का प्रसिद्ध लोकगीत है।
  • चम्बा घाटी में नुआला गीत गाया जाता है।

हिमाचल प्रदेश के लोकनृत्य

  • जातरु कामयड नृत्य त्योहारों के अवसर पर आयोजित होने वाला नृत्य है।
  • माला नृत्य किन्नौर जिले का प्रसिद्ध नृत्य है।
  • नाटी नृत्य एक प्रकार का समूह नृत्य है।
  • दलशोन नृत्य किन्नौर जिले की रोपा घाटी में आयोजित होता है।
  • शन तथा शाबु लाहौल घाटी के लोकप्रिय नृत्य हैं।
  • जब किसी शेर को मार जाता है टी चोलम्ब नृत्य किया जाता है।
  • क्यांग नृत्य किन्नौर जिले में आयोजित होता है।
  • छम्ब नृत्य मुखौटा लगाकर किया जाने वाला नृत्य है।

हिमाचल प्रदेश के लोकनाट्य

  • बूड़ा और सिंह शिमला के गाँव में आयोजित होने वाला नाट्य है।
  • कारियाल लोकनाट्य मुख्य रूप से शिमला में आयोजित होता है।
  • हिमाचल प्रदेश में स्वांग लोकनाट्य भी प्रचलित है।

Also read…
हिमाचल प्रदेश के हवाई अड्डे | Airports of Himachal Pradesh

Leave a Comment

close