Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram


Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान (National Parks of Uttarakhand)

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान (National Parks of Uttarakhand)

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान

वन्य जीवो के संरक्षण के लिए उत्तराखंड में 6 राष्ट्रीय उद्यान (National Parks) है जो निम्नलिखित है 

Also read… उत्तराखंड के वन्य जीव अभ्यारण्य 

1. जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान (Jim Corbett National Park)

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान 1936 में हेली राष्ट्रीय उद्यान के नाम से स्थापित भारत तथा एशिया का प्रथम राष्ट्रीय उद्यान है स्वतंत्रता के बाद इसका नाम रामगंगा नेशनल पार्क रखा गया , फिर वर्ष 1957 में इसका नाम प्रकृति प्रेमी जिम कॉर्बेट के नाम पर जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान कर दिया गया|
जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान नैनीताल और पौड़ी जिले में 520.82 वर्ग किमी में  विस्तृत है, इसका प्रवेश द्वार नैनीताल जिले के ढिकाला में है , जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क के मध्य में पाटली दून स्थित है 
जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान को 1 नवम्बर 1973 देश का पहला बाघ संरक्षित घोषित किया गया , यह राष्ट्रीय उद्यान प्रयटको को सर्वाधिक  आकर्षित करने वाला राष्ट्रीय उद्यान है|

2. गोविन्द राष्ट्रीय उद्यान (Govind National Park)

गोविन्द राष्ट्रीय उद्यान उत्तरकाशी जिले में स्थित है इसकी स्थापना 1980 में की गयी , यह राष्ट्रीय उद्यान 472 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है 
गोविन्द राष्ट्रीय उद्यान में भूरा भालू ,  कस्तूरी मृग, हिम तेंदुआ, काला  भालू , मोनाल आदि पशु-पक्षी पाये जाते है

3. नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान (Nandadevi National Park)

नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान चमोली जिले में 624 वर्ग किमी में फैला है , इसकी स्थापना 1982 में की गयी , इस पार्क में हिमालयन भालू, मोनाल, कस्तूरी मृग , भरल आदि पशु-पक्षी पाये जाते है 

4. फूलो की घाटी राष्ट्रीय उद्यान (Valley of Flowers National Park)

फूलों की घाटी चमोली जिले में जोशीमठ -बद्रीनाथ मार्ग पर नर एवं गंध मादन पर्वतो के बीच में भ्युंडार घाटी में स्थित है , फूलों की घाटी की खोज सन 1931 में ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक सिडनी स्माइथ ने की , उन्होंने यहाँ अपने साथी होल्ड्सवर्थ  की सहायता से फूलो की  250 किस्मो का पता लगाकर 1947 में अपनी पुस्तक फूलों की घाटी (Valley of flowers) में प्रकाशित किया|
फूलो की घाटी को 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया तथा वर्ष 2005 में फूलों की घाटी को विश्व धरोहर में सामिल किया गया |
फूलो की घाटी के कुछ अन्य नाम नंदन कानन, अलका, गंधमाधन, बैकुंठ,  पुश्पावाली, पुष्परसा तथा फ्रैंक स्माइथ घाटी हैं

5. राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park)

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान हरिद्वार, देहरादून तथा पौड़ी गढ़वाल जिलो में 820.42 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है इसकी स्थापना 1983 में की गयी , इसका मुख्यालय देहरादून में है|

6. गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान (Gangotri National Park)

गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान उत्तरकाशी जिले में 2390 वर्ग किमी में विस्तृत उत्तराखंड का सबसे अधिक क्षेत्रफल वाला राष्ट्रीय उद्यान है इसकी स्थापना 1989 में की गयी|

Next – उत्तराखंड के वन्य जीव अभ्यारण्य

Also read… उत्तराखंड में वनों से सम्बंधित आन्दोलन

1 thought on “उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान (National Parks of Uttarakhand)”

Leave a Comment

close