Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

Network Devices in Hindi – नेटवर्क युक्तियाँ

Network Devices in Hindi – नेटवर्क युक्तियाँ

computer network in hindi

Network Devices in Hindi – नेटवर्क युक्तियाँ

नेटवर्क युक्तियों का प्रयोग दो या दो से अधिक कंप्यूटरों को आपसे में जोड़ने और नेटवर्क की क्षमता को बढाने के लिए किया जाता है
कंप्यूटर नेटवर्किंग में उपयोग में ली जाने वाली प्रमुख युक्तियाँ निम्नलिखित है 

  • हब (Hub)
  • राऊटर (Router)
  • रिपीटर (Repeater)
  • स्विच (Switch)
  • गेटवे (Gateway)
  • मॉडेम (Modem)
  • ब्रिज (Bridge)

रिपीटर (Repeater)

रिपीटर का प्रयोग करके निम्न स्तर के सिगनल को उच्च स्तर के सिगनल में परिवर्तित किया जाता है जिससे की सिगनल लम्बी दूरी तय कर सके

हब (Hub)

एक हब का प्रयोग ऐसे स्थान पर नेटवर्क की केबलो को जोड़ने के लिए किया जाता है जहाँ बहुत सारी केबल एक साथ मिलती है 

राऊटर (Router)

राऊटर का प्रयोग कंप्यूटर नेटवर्क में डाटा के स्थांतरण के लिए किया जाता है राऊटर एक जंक्शन की तरह कार्य करता है जो यह तय करता है की किस सूचन को किस रास्ते सबसे कम समय का उपयोग करते हुए उसके गन्तव्य तक पहुँचाना है 

स्विच (Switch)

स्विच को हब के स्थान पर उपयोग किया जाता है स्विच और हब में अंतर यह है की हब स्वयं तक आने वाले डाटा को अपने सभी पोर्ट में भेजता है जबकि स्विच स्वयं तक आने वाले डाटा को एक निश्चित पोर्ट में भेजता है

गेटवे (Gateway)

गेटवे का उपयोग विभिन्न नेटवर्क प्रोटोकॉलो को जोड़ने के लिए किया जाता है गेटवे को प्रोटोकॉल परिवर्तक (Protocol Converter) भी कहा जाता है 

मॉडेम (Modem)

मॉडल एनालॉग सिगनल को डिजिटल सिगनल व डिजिटल सिगनल को एनालॉग सिगनल में बदलता है मॉडेम को टेलीफोन लाइन और कंप्यूटर के बीच लगाया जाता है 
डिजिटल सिगनल को एनालॉग सिगनल में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को Modulation तथा एनालॉग सिगनल को डिजिटल सिगनल में बदलने की प्रक्रिया को Demodulation कहते है 

ब्रिज (Bridge)

ब्रिज के माध्यम से दो या दो से अधिक छोटे नेटवर्को को आपस में जोड़कर एक बड़ा नेटवर्क बनाया जाता है 

Also read….
Components of a Network – नेटवर्क के अवयव

Leave a Comment

close