Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram


Get Study Material & Notification of Latest Posts on Telegram

उत्तराखंड राज्य के प्रतीक चिन्ह

 उत्तर प्रदेश के 13 जिलो को अलग कर उत्तराँचल  राज्य का गठन 9 नवम्बर 2000 को किया गया | उत्तराँचल देश का 27 वा और हिमालयी राज्यों में 11 वा राज्य है | 1 जनवरी 2007 से इसका नाम  उत्तराखंड कर दिया गया | गठन के बाद 2000  में निम्नलिखित प्रतीक चिह्नों का निर्धारण किया  |

 

राज्य चिह्न –

uttarakhand

  • इस चिह्न में एक गोलाकार मुद्रा में तीन पर्वत चोटियों की श्रंखला और उसके नीचे गंगा की चार लहरों को दिखाया गया है |
  • बीच वाली चोटी के मध्य में अशोक का लाट  है और उसके नीचे ‘सत्यमेव जयते’ लिखा है |

also read….पंचेश्वर बांध परियोजना उत्तराखंड

राज्य पुष्प – ब्रह्मकमल 

  • ब्रह्मकमल एस्टेरसी कुल का पौधा है और इसका वैज्ञानिक नाम ‘ सोसूरिया आबवेलेटा ‘ है |
  • यह मध्य हिमालय में 4800 से 6000 मीटर की उचाई पर पाया जाता है |
  • उत्तराखंड में इसकी 24 व पूरे विश्व में 210 प्रजातीय पाई जाती है |
  • स्थानीय भाषा में इसे ‘कौल पदम् ‘ कहा जाता है |
  • महाभारत के वन पर्व में इसे ‘सौन्धिक पुष्प ‘ कहा गया है |
  • ब्रह्मकमल में जुलाई से सितम्बर तक फूल खिलते है|

also read…..सहायक विकास अधिकारी पेपर 2018

राज्य पक्षी – मोनाल 

  • मोनाल को हिमालय के मयूर के नाम से भी जाना जाता है |
  • मोनाल मादा पक्षी है और डफिया इसी प्रजाति का नर पक्षी है |
  • मोनाल 2500 से 5000 मीटर की उचाई में पाया जाता है |
  • मोनाल का वैज्ञानिक नाम ‘लोफोफोरस इम्पिजेनस ‘ है |
  • हिमांचल प्रदेश का राज्य पक्षी व नेपाल का रास्ट्रीय पक्षी भी मोनाल ही है |
  • मोनाल का प्रिय आहार आलू है|

 

राज्य पशु -कस्तूरी मृग 

  • कस्तूरी मृग का वैज्ञानिक नाम ‘मास्कस कइसोगास्टर ‘ है |
  • इसे हिमालयन मस्क डियर के नाम से भी जाना जाता है |
  • यह 3600 से 4400 मीटर की उचाई तक पाया जाता है |
  • कस्तूरी केवल नर मृग में पाई जाती है |
  • कस्तूरी मृग विलुप्ति  के कगार पर है इसे बचाना के लिए निम्नलिखित प्रयास  किये जा रहे है 
    • 1972 में केदारनाथ वन्य जीव प्रभार के अंतर्गत 967.2 वर्ग किमी छेत्र में कस्तूरी मृग विहार की स्थापना की गयी |
    • 1977 में महरुड़ी कस्तूरी मृग अनुसन्धान केंद्र की स्थापना की गयी |
    • 1986 में पिथोरागढ़ के अस्कोट में अभ्यारण्य की स्थापना की गयी |
    • 1982 में कंचुला खरक (चमोली ) में कस्तूरी मृग प्रजनन केंद्र की स्थापना की गयी |

also read….उत्तराखण्ड – प्रमुख दर्रे uttarakhand famous pass

राज्य वृक्ष -बुरांश 

  • बुरांश का वैज्ञानिक नाम ‘रोडोडेन्ड्रोन आर्बोरियम’ है|
  • यह 1500 से 4000 मीटर की उचाई तक पाया जाता है 

1 thought on “उत्तराखंड राज्य के प्रतीक चिन्ह”

Leave a Comment

close